Mental illness in females: महिलाओं में ये लक्षण बताते हैं मानसिक बीमारी के संकेत

Mental illness in females: महिलाएं पुरुषों कि तुलना में मानसिक तौर पर अधिक मजबूत होती हैं। लेकिन यह भी है कि महिलाएं ज्यादा भावुक और किसी बात को अपने मन बहुत देर तक रखकर सोचने वाली होती हैं। कभी कभी निगेटिव बातों को देर तक सोचते रहना भी खतरनाक हो सकता है।

Mental illness in females: महिलाओं में ये लक्षण बताते हैं मानसिक बीमारी के संकेत
Mental illness in females: महिलाओं में ये लक्षण बताते हैं मानसिक बीमारी के संकेत


Mental illness in females: पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को मानसिक तौर पर अधिक मजबूत माना जाता है। लेकिन यह भी सच है कि महिलाएं पुरुषों कि अपेक्षा अधिक संवेदनशील, भावुक, किसी भी निगेटिव / पॉजिटिव बातों को बहुत देर तक सोचती रहती हैं। मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रखने के लिए हमें कई सारी चीजों का ध्यान रखना होता है। हमारा फिजिकल स्वास्थ्य जितना जरूरी है उतना ही मानसिक स्वास्थ्य भी जरुरी है। तो आइये जानते हैं कि महिलाओं में मानसिक स्वास्थ्य का पता लगाने के लिए इन बातों को ध्यान में रखना चाहिए:-

एंग्‍जायटी (Anxiety)

एंग्जायटी एक मानसिक स्वास्थ्य संबंधित परेशानी है, इसमें लोग खुद को नेगेटिव सोच, बेचैनी, डर और चिंता से उलझे रहते हैं। अचानक हाथों का कंपनी लगना, बेवजह पसीना आना, मन में घबराबट होना, बिना किसी बात के मन में उलझन होना, बिना बात के रोना ये सब एंग्जायटी होने के लक्षण हैं।यदि आपको सही से नींद नहीं आ रही है तो आपको भी एंग्जायटी की दिक्कत हो सकती है।

अनियमित दिनचर्या

भूख में बदलाव होना

यदि अचानक से आपके भूख में बदलाव होने लगता है। खाने का टाइम बदल रहा है या फिर आपको कभी कम और अभी अधिक भूख लगती है, तो यह आपके मानसिक स्वास्थ्य के कारण हो सकता है। इसलिए अगर अचानक से आपकी भूख में बदलाव होने लगे तो अपने मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

अधिक थकान होना

वैसे थकान आना कई कारणों से हो सकता है। लेकिन यदि अचानक से आपको ऐसा महसूस हो रहा है कि आप थोड़ा सा काम करके भी थकान महसूस कर रही हैं लेकिन आपकी फिजिकल हेल्थ कंडीशन अच्छी है तो, आपको मानसिक स्वास्थ्य कि प्रॉब्लम हो सकती है। यहाँ पर आपको अपने मेन्टल हेल्थ पर केयर करने कि जरूरत होती है। कई बार नींद पूरी न होने के कारण भी ऐसा हो सकता है।

नींद में बदलाव होना

नींद में बदलाव होना भी आपके मानसिक स्वास्थ्य कि तरफ इशारा करता है। यदि आप मानसिक रूप से शांत और स्वस्थ नहीं रहते हैं तो, आपको अनियमित नींद कि शिकायत हो सकती है। लेकिन अगर अचानक से आपके नींद में बदलाव हुआ है तो आपको अपने मेन्टल हेल्थ कि तरफ ध्यान देना चाहिए इसके साथ ही आपको पूरी नींद लेने कि कोशिश भी करनी चाहिए।

अनियमित निद्रा

आज के दौड़ भाग भरी जिंदगी में लोग पर्याप्त नींद ले पाते हैं जिसके वजह से हमें कई तरह की समस्याओ का सामना करना पड़ता है। नींद न पूरी होने से आँखों का काला घेरा, चिड़चिड़ा पन, मोटापा, डिप्रेशन आदि हो सकता है।

उदास रहना

उदास रहना वैसे तो किसी के लिए अच्छा नहीं होता है। हर किसी को हंसते मुस्कुराते रहना चाहिए। लेकिन उदासी भी कहीं न कहीं आपके दिमागी तौर पर परेशान होने से ही आती है। यदि कोई महिला अचानक से उदास रहने लगे तो ये भी उसके मेंटली हेल्थ प्रॉब्लम का एक संकेत हो सकता है।

मूड में बदलाव आना

 मूड हमेशा सही रहे यह जरूरी नहीं है लेकिन यदि किसी का हमेशा मूड स्विंग करता रहता है या फिर महिलाओं में चिड़चिड़ापन का आना भी मेंटल हेल्थ में प्रॉब्लम का संकेत हो सकता है। मूड में बदलाव आने से नींद न आना, सही टाइम पर भोजन न करना आदि शामिल हो सकते हैं।

डिस्क्लेमर: उपरोक्त लेख सिर्फ एक जानकारी मात्र है। इसे इंटरनेट पर उपलब्ध सामग्रियों से लिया गया है। कृपया किसी एक्सपर्ट से सलाह लेना न भूलें। LallanTops.com इसके सतप्रतिशत सही होने की गारंटी नहीं लेता।